On Pujara,Cheteshwar (Poem)

An easier calling,a simpler name, A shorter hike to taller peaks, Some flashes of  moody arrogance, Moments of madness off the pitch, More Teflon, lesser concrete somewhat, Less Wally, more starry could have been, Battalions of such pretenders do exist, The sheet anchor is always on the beat !         (8) Patiently he blocks, makes ’em…

मायावी अटल (कविता)

जो  हिन्दी बोल पड़ा  यू एन  में, देश का मस्तक उठा दिया , वो बैठ बस में शांतिदूत , लाहौर तक चला गया , पोखरण में किया परीक्षण , कारगिल में लाज बचाई , तेरह दिन , तेरह महीने , फिर तीसरी सरकार बनाई , शब्द प्रयोग करता था ऐसे , मानो सटीकता का हो…

भगत सिंह से दूर रहो (एक कविता)

नाम भी मत लो भगत सिंह का, रह गया होता वह वीर जवान , तो ठोक के ठप्पा लाल रंग का , मांग लेते उससे भी प्रमाण  ।1। (देशभक्ति का ) वामपंथ के नाम पर देते, जी भर-भर कर रोज़ ही गाली, , एंकाउंटर में टपका देते, बतलाकर उसको बागी-नक्सली, वह इंकलाबी नौजवान था, करता…

ON PASH -the Rebel Poet

  The above link contains a beautiful rendition of “Sabse Khatarnak”(also referred to as Mehnat ki Loot) ,written by Avataar Singh Sandhu,aka Pash. JNU is generally in news for all the wrong reasons – sometimes for celebrating the slaying of Indian jawans in Dantewada, at other times for welcoming Yasin Malik while showing black flags…